RUDRAPUR UTTRAKHAND

खंड शिक्षा अधिकारी करेंगे कान्फ्लुएंस वर्ल्ड स्कूल के फीस वाले मामले की जांच …मुख्य शिक्षा अधिकारी ने दिए निर्देश

Summary

रुद्रपुर। शहर के कॉन्फ्लुएंस वर्ल्ड स्कूल से जुड़ा एक बड़ा मामला सामने आया है। दरअसल भाजपा ग्रामीण मंडल अध्यक्ष हरीश खान वाणी की बेटी डियाना खानवानी शिमला पिस्तौर, रूद्रपुर स्थित कान्फ्लुएंस वर्ल्ड स्कूल में कक्षा 6 की छात्रा है। हरीश […]

रुद्रपुर। शहर के कॉन्फ्लुएंस वर्ल्ड स्कूल से जुड़ा एक बड़ा मामला सामने आया है। दरअसल भाजपा ग्रामीण मंडल अध्यक्ष हरीश खान वाणी की बेटी डियाना खानवानी शिमला पिस्तौर, रूद्रपुर स्थित कान्फ्लुएंस वर्ल्ड स्कूल में कक्षा 6 की छात्रा है।

हरीश खानवानी ने मुख्य शिक्षा अधिकारी को एक प्रार्थना पत्र देकर एक शिकायत दर्ज कराई है कि उनकी बेटी बुधवार को वार्षिक परीक्षा देने के लिए स्कूल गई थी। पत्र में उन्होंने आरोप लगाया है कि स्कूल प्रबंधन ने उनकी बेटी डियाना को फीस जमा नहीं करने के कारण बाहर खड़ा कर दिया। बाद में प्रधानाचार्य मीनाक्षी खेत्रपाल ने उसकी बेटी से इस संबंध में घर पर फोन करवाया। लेकिन जब एक घंटे बाद वह स्कूल पहुंचे तो वहां पर उनकी बेटी नहीं थी तब उन्हें सूचित किया गया कि उनकी बेटी कक्षा में है । स्कूल के प्रबंधन द्वारा फीस को लेकर फोन कराने के मामले में हरीश खानवानी और प्रबंधन के बीच तीखी नोकझोंक हो गई। लेकिन जब प्रबंधन की ओर से कहा गया कि फीस देने के बाद ही वार्षिक परीक्षा में बैठने की अनुमति दी जाएगी तो इस पर हरीश खानवानी ने शुल्क जमा करा दिया।

वही हरीश खानवानी ने मुख्य शिक्षा अधिकारी और उप जिलाधिकारी रुद्रपुर को लिखित शिकायत पत्र में यह जिक्र किया कि बच्चों का फीस के नाम पर मानसिक उत्पीड़न किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि फीस के बकाया की बात अभिभावकों से कहने के बजाय स्कूल प्रबंधन विद्यार्थियों से कहता है। जिसका कोई औचित्य नहीं है। मुख्य शिक्षा अधिकारी ने खंड शिक्षा अधिकारी को मामले की जांच कर रिपोर्ट प्रेषित करने की बात कही है ।

हालांकि कॉन्फ्रेंस वर्ल्ड स्कूल के प्रबंधक पुनीत छाबड़ा ने भी अपना मत व्यक्त किया उन्होंने कहा कि फीस के लिए बच्चे को स्कूल के बाहर नहीं खड़ा किया गया था। उन्होंने कॉन्फ्रेंस वर्ल्ड स्कूल प्रबंधन पर लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद बताए उन्होंने कहा कि बच्चे की परीक्षा कराई गई है और बकाया फीस के लिए कई बार रिमाइंडर भी भेजा गया।

साथ ही अभिभावकों ने स्कूल आकर प्रधानाचार्य के साथ अभद्रता की है। हलांकि वास्तविक कारण क्या था वो तो खंड शिक्षा अधिकारी की जांच के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *