Top Stories:
HALDWANI UTTRAKHAND

अंतिम दर्शन के लिए उमड़ी भीड़ ने बताई डाक्टर इंदिरा ह्रदयेश की सियासी ताकत..बीजेपी विधायक ठुकराल ने नेता प्रतिपक्ष को श्रद्धांजलि देते हुए कही ये बड़ी बात

Summary

हल्द्वानी उत्तराखंड की नेता प्रतिपक्ष डाक्टर इंदिरा हृदयेश के निधन के बाद उत्तराखंड प्रदेश के साथ देश के वरिष्ठ राजनेताओं के शोक संदेश लगातार आते रहे। डॉ इंदिरा ह्रदयेश का निधन हार्टअटैक के कारण दिल्ली में हो गया था। जिसके […]

हल्द्वानी

उत्तराखंड की नेता प्रतिपक्ष डाक्टर इंदिरा हृदयेश के निधन के बाद उत्तराखंड प्रदेश के साथ देश के वरिष्ठ राजनेताओं के शोक संदेश लगातार आते रहे। डॉ इंदिरा ह्रदयेश का निधन हार्टअटैक के कारण दिल्ली में हो गया था। जिसके बाद उनके पार्थिव शरीर को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नेतागण सा सम्मान लेकर देर रात हल्द्वानी पहुंचे । डॉक्टर इंद्रा हृदयेश के पार्थिव शरीर को हल्द्वानी तक पहुंचने में काफी समय लग गया, दरअसल दिल्ली से लेकर उत्तराखंड तक जो छोटे छोटे कस्बे या शहर मिले वहां सभी जगह डॉक्टर इंदिरा ह्रदयेश का कांग्रेसी कार्यकर्ताओं और आम नागरिकों ने श्रद्धांजलि दी। डॉ इंदिरा हृदयेश ने अपने राजनीतिक जीवन के दौरान उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के न जाने कितने युवाओं का मार्गदर्शन किया और यही कारण था कि जब डॉक्टर इंदिरा ह्रदयेश अपनी अंतिम यात्रा के लिए अपने आवास से निकली तो जो लोगों का हुजूम था, उससे उनकी राजनीतिक जमीन का अंदाजा लगाया जा सकता था । कांग्रेस का बड़ा से बड़ा नेता हो या कार्यकर्ता वह तो उस पंक्ति में थे ही ,साथ ही सरकार के गणमान्यों ने भी डॉक्टर इंदिरा ह्रदयेश को श्रद्धांजलि अर्पित की । खुद मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत अपने तय समयानुसार डॉ इंदिरा ह्रदयेश को श्रद्धांजलि देने के लिए उनके आवास पहुंचे। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने श्रद्धांजलि देने के बाद मीडिया से बात करते हुए कहा कि डॉ इंदिरा हृदयेश एक परिपक्व राजनेता थीं और उनकी कमी को कोई पूरा नहीं कर पाएगा।

वहीं रुद्रपुर शहर से भारतीय जनता पार्टी के विधायक राजकुमार ठुकराल भी डॉ इंदिरा हृदयेश की अंतिम यात्रा में शामिल हुए। उन्होंने अंतिम यात्रा में शामिल होने के दौरान डॉ इंदिरा हृदयेश के सुपुत्र सुमित हृदयेश को गले लगा कर सांत्वना भी दी। विधायक राजकुमार ठुकराल ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि इंदिरा हृदयेश ने दलगत भावना से ऊपर उठकर लोगों का सहयोग किया है। राजकुमार ठुकराल ने डॉक्टर इंदिरा हृदयेश से अपने संबंधों को याद करके भावुक होते हुए कहा कि मैडम ने उनकी भी कई बार मदद की है । उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के लोग डॉक्टर इंदिरा ह्रदयेश को लम्बे समय तक याद करेंगे । साथ ही उन्होंने कहा कि डॉक्टर इंदिरा ह्रदयेश के सुपुत्र सुमित हृदयेश भी सहृदय व्यक्ति हैं और उन्हीं के नक्शे कदम पर चलते हुए वो लोगों की मदद् करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *