DELHI

किसान आंदोलन का सबसे बड़ा असर दिखा तराई में, कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य और उनके पुत्र ने ली कांग्रेस की सदस्यता, कैबिनेट मंत्री की वापसी में उत्तराखंड कांग्रेस प्रभारी देवेंद्र यादव की रही बड़ी भूमिका

Summary

दिल्ली उत्तराखंड प्रदेश में चुनाव से पहले बीजेपी को आज बड़ा झटका लगा है। सोमवार को सरकार में कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य अपने विधायक बेटे संजीव आर्य सहित कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। 2017 में यशपाल आर्य कांग्रेस को […]

दिल्ली

उत्तराखंड प्रदेश में चुनाव से पहले बीजेपी को आज बड़ा झटका लगा है। सोमवार को सरकार में कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य अपने विधायक बेटे संजीव आर्य सहित कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। 2017 में यशपाल आर्य कांग्रेस को छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए थे। यशपाल आर्य बीजेपी संगठन और सरकार से लगातार नाराज़ चल रहे थे। सोमवार को उन्होंने घर वापसी करते हुए दिल्ली में कांग्रेस पार्टी ज्वाइन कर ली है। कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत सहित पार्टी के पदाधिकारियों ने यशपाल आर्य को कांग्रेस में शामिल करवाया। दरअसल जनपद उधम सिंह नगर में किसान आंदोलन लगातार तेज हो रहा था और जनपद उधम सिंह नगर की ही बाजपुर विधानसभा से कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य विधायक हैं और किसान आंदोलन ने इस बार तराई के भूभाग में हलचल मचा रखी थी।

गौर करें कि वर्ष 2017 में भारतीय जनता पार्टी की जनपद उधम सिंह नगर में 9 में से 8 सीटें थी ।लेकिन इस बार किसान आंदोलन के चलते भारतीय जनता पार्टी के विधायकों और मंत्रियों को अपने वोटरों के बीच काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। और यशपाल आर्य पिछले काफी समय से भारतीय जनता पार्टी संगठन और सरकार दोनों से ही नाखुश नजर आ रहे थे। साथ ही लखीमपुर खीरी कांड के बाद यशपाल आर्य ने अपनी प्रतिक्रिया किसानों के पक्ष में दी थी। इसके बाद से उनके कांग्रेस में वापस जाने की कवायद और चर्चाएं तेज हो गई थी। साथ ही कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य और उनके पुत्र कि कांग्रेस वापसी में कांग्रेस उत्तराखंड के प्रभारी देवेंद्र यादव की भी बड़ी भूमिका मानी जा रही है।

इसके बाद 2017 में कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए बागियों के भी कांग्रेस में जाने की चर्चाएं तेज हो गई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *