Top Stories:
RUDRAPUR UTTRAKHAND

एक्सक्लूसिव..SSP मंजूनाथ टीसी का जनहित के लिए बड़ा निर्णय,बेहतर भविष्य के लिए सम्बंधित विभागों को भी उठाने चाहिए ठोस कदम

Summary

रुद्रपुर पूरे देश में रासायनिक खादों के अधिक प्रयोग करने से ना सिर्फ जमीन की उर्वरा शक्ति समाप्त हो रही है बल्कि ऐसी जमीन पर उगने वाले अनाज से मानव शरीर में तरह-तरह की बीमारियां भी जन्म ले रही हैं। […]

रुद्रपुर

पूरे देश में रासायनिक खादों के अधिक प्रयोग करने से ना सिर्फ जमीन की उर्वरा शक्ति समाप्त हो रही है बल्कि ऐसी जमीन पर उगने वाले अनाज से मानव शरीर में तरह-तरह की बीमारियां भी जन्म ले रही हैं। जनपद उधम सिंह नगर को उत्तराखंड के तराई भूभाग के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि यहां पर मिट्टी की उर्वरता और पानी की उपलब्धता ने इस जमीन को काफी उर्वरक बना दिया है। लेकिन दिन-ब-दिन अधिक फसल उपज पाने के लिए लोग इस जमीन की उर्वरा शक्ति को कमजोर करने पर तुले हुए हैं।

जनपद उधम सिंह नगर के मुख्यालय रुद्रपुर में स्थित पुलिस लाइन में भी कुछ ऐसा ही मामला देखने को मिला। जनपद उधम सिंह नगर के पुलिस विभाग में काफी भूमि कृषि योग्य पड़ी हुई है। जिसको पुलिस विभाग हर साल ठेके पर आवंटित करता है।

जनपद उधम सिंह नगर की पुलिस लाइन में लहराती हुई यह धान की फसल इसी गर्मी में लगाई गई है लेकिन जनपद उधम सिंह नगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मंजूनाथ टीसी ने इस खेती को लेकर एक बड़ा जनहित का निर्णय ले लिया। उन्होंने पुलिस लाइन और विभाग की जमीन को ठेके पर लेने वाले ठेकेदार किसान को एसएसपी कार्यालय बुलाया और इसके बाद का मंजर तो देखने काबिल था।

संभवत यह पहली बार हुआ होगा जब जनपद उधम सिंह नगर के किसी वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को इस जमीन की उर्वरता और लोगों के स्वास्थ्य की इतनी चिंता हुई होगी। एसएसपी मंजूनाथ टीसी ने कृषि भूमि के ठेकेदार को चेतावनी देते हुए कहा कि उसके द्वारा कृषि उपज ज्यादा पैदा करने के चक्कर में अधिक रासायनिक खादों का प्रयोग किया जा रहा है। जिससे जमीन की उर्वरता तो खत्म होगी साथ ही जो उस अनाज को खाएंगे या आसपास के लोगों को जो पीने का पानी मिलेगा, उससे उनका स्वास्थ्य बुरी तरह से प्रभावित होगा। एसएसपी ने अपने अधीनस्थ अधिकारियों से कहा कि इस फसल के बाद यह ठेका निरस्त कर नई निविदा के तहत जैविक खेती का प्रस्ताव निकाला जाए। जिससे इस जमीन की उर्वरा क्षमता भी बरकरार रहे और लोगों के स्वास्थ्य से किसी भी तरह का कोई खिलवाड़ ना हो सके ।

गौर करें तो जनपद उधम सिंह नगर में गर्मी के मौसम में भी धान की फसल लगाई जाती है। उसका एक बड़ा कारण पानी की उपलब्धता का होना है। लेकिन अभी कुछ साल पहले ही जिला प्रशासन द्वारा एक प्रस्ताव संज्ञान में आया था जिसमें गर्मी में धान की फसल को रोकने का प्रस्ताव बनाया गया था। हालांकि वह प्रस्ताव कहां है, किस स्थित में है, इस विषय में कुछ कहना मुश्किल है।

खैर यह तो पुलिस विभाग का अपना मामला रहा लेकिन अगर एसएसपी मंजूनाथ टीसी की तरह से संबंधित विभागों के अधिकारी सोचना शुरु कर दें तो देश भविष्य के एक बहुत बड़े संकट से राहत पा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *